25 July 2012

साज बहेके कभी कभी आवाज से पूछ लो ,चातक .

साज    बहेके    कभी   कभी  आवाज   से    पूछ    लो ,
कितना दर्दे -गम हुआ,किसीका दिल बहेलानेके लिए.


चाँद        चमका     है     चांदनी     से      पूछ      लो ,
कितना        तरसा         हू       दोस्ती      के      लिए


गुलशन    में   गुल   छेद     हुआ  , पोधोसे   पूछ  लो  ,
कितना   तोंहीन   हुआ ,   गेरोंकी    हशरत  के   लिए


चाँद        चमका    है     चांदनी      से     पूछ       लो
कोन        रोया      है       अजनबी        के         लिए


वफाने      तोडा     नाता       जफा     से    पूछ     लो ,
कितना      बदनाम     जुफा     हुआ     वफाके   लिए


चाँद      चमका      है     चांदनी      से     पूछ       लो
मोंत         आई        है       जिन्दगी      के         लिए                    


हुश्ने  से  ओर  कुछभी  है ,चाँद  के  दाघ  से  पूछ  लो  ,
कितना          तोसिफ     हुआ ,    शीतलताके    लिए .

चातक .

3 comments:

  1. mauri shah liked chatak Dev.'s blog post साज बहेके कभी कभी आवाज से पूछो ,चातक.
    yesterday

    ReplyDelete
  2. Deepa Sevak liked chatak Dev.'s blog post साज बहेके कभी कभी आवाज से पूछो ,चातक.
    23 hours ago

    ReplyDelete
  3. umesha liked chatak Dev.'s blog post साज बहेके कभी कभी आवाज से पूछो ,चातक.
    21 hours ago

    ReplyDelete