18 August 2012

कभी लिपटी हुई तितली गुलसे मोहब्बत करती हो ,चातक

कभी     लिपटी   हुई     तितली    गुलसे   मोहब्बत   करती   हो ,
उन     गुलकी   मोहब्बतको ,   इस   कदर    गिराया    न    करो .


कभी   प्यार  करनेवाले  फस्ले-गुलसे  मोहब्बत किया करते  हो,
उन   फैली  हुई  खुश्बू की  बहार को , इस  कदर लुटाया  न  करो .


माना   मैंने     ज़माने  ने     जख्मे    देके    सताये     हुए      हो ,
मगर     उन    जख्मे-दर्द   को ,इस    कदर   बढाया    न    करो  .


अपनी     आज़ादिमे     परिन्दे     आसमान में    जूम    रहे   हो  ,
वफ़ा   का    नाम  लेके   समाको ,इस  कदर   जलाया   न   करो .


ओं साकीआ प्यासी आँखों से जाम को,इस कदर क्यू टकराते हो  ,
बहेके      हुऐ  की    प्यासको ,   इस   कदर    बढ़ाया    न    करो .


माना    मैंने    जबुरिका   नाम    मोहब्बत   जलता  चिराग   हो ,
बेवफा का नाम लेके बाजारों में, इस कदर नाम उछाला  न  करो .


माना     मैंने    दिलो-जानसे    मोहब्बत     किया    करते     हो  ,
उन मोहब्बतका खुदा नाम हो, इस कदर दामन छुड़ाया न  करो .


माना   मैंने  जिंदगीमें  मोहब्बत के  दिन  बहोत  नहीं  होते  हो
कभी   मिले  न   मिले   इस, कदर  फासला  बढाया    न    करो

चातक

1 comment:

  1. Haresh Sheth liked chatak Dev.'s blog post कभी लिपटी हुई तितली गुलसे मोहब्बत करती हो ,चातक.
    6 hours ago

    ReplyDelete