1 July 2013

वो कई मुद्तोसे सोया नही ,कोई बहाना चाहिए ,चातक


वो    कई     मुद्तोसे     सोया    नही ,  कोई    बहाना   चाहिए ,
मोंत     खुद     बदनाम   होता    नही ,   कोई   बहाना  चाहिए .


वो    रुशवा    हो   गया ,   तुजे     रुशवा  की    बहोत    चाहत ,
तुजे     मिलन   के     वास्ते ,    मुझे    कोई    बहाना   चाहिए .


आशिकी  अदा ,  दीवाना पन ,   वो  यादे  एक  सफर  ही  सही ,
नाखुदा  को  मैंने  खुदा बनाया ,ढूढने का  कोई  बहाना चाहिए .


वो  दूर  तक फासला करके बेठे , खफा हुए है किसे  गिला करू ,
उन्हें   मुद्तो  से   मना  रहा  हू  , मुझे   कोई   बहाना  चाहिए .


तुम कहा गये ,हवा हो  गये ,मुझे कसम है तेरी कुछ पता नहीं ,
खुदा     तुजे     खुदाई    का    वास्ता ,  कोई   बहाना   चाहिए .


तुजे    मांगने   के   लिए     दुआसे     उठेंगे    मेरे   दो     हाथ ,
खुदा    देंखेगे   मांगनेसे   मिलता   है ,  कोई   बहाना   चाहिए

चातक

 

No comments:

Post a Comment