24 August 2013

आग लगेगी ध्रुवा उठेगा ,आग बुजाना ही नहीं । चातक


आग    लगेगी   ध्रुवा  उठेगा ,  आग   बुजाना  ही  नहीं ।
कैसी    कैफियत  की  आग  है   जिसका  ध्रुवा ही  नहीं।।


इंशा -ऐ -अन्दाज  में  देखते   है   दीदार   आइनेमे   वो।
आशिक तेरा ,शायराना तेरा ,चाह ऐसी नफ़रत  ही नहीं।।


सुनेहरा   सूरज   ढलने   से    शवे -महेताब    निकलेगा।
शबनमें   रात    ऐसी    है   जिसकी   सुबह    ही    नहीं।।


तेरी      यह    निगाहे      है ,    की       निगाहे -पैमाना।।
मै   पिए  जा   रहा   हुँ   मैकदा   की  जरुरत  ही    नहीं।।


मुझे   फूंकने  से   पहले    मेरा    दिल    निकाला  जाए ।
उनका  दिल  साथ  जल  न  जाए ,वो दिल मेरा ही नहीं।।


खुदा    करे  तेरे    गेंसुओ    के     साये   मे   मुकाम  हो।
खुदा -ऐ -मुहब्बत   के   सिवा    कोई  मुकाम  ही   नहीं।।

चातक


No comments:

Post a Comment